mahesh-bhai-4482715

“इक विभूति”

विभूतिमय देह से "विभूति" बन जाने की यात्रा कैसी रही होगी? जन्मी होगी कब, कहाँ, कैसे, किस पल ......अनगिन से हैं अक्षर "क" ! सोचती हूँ, भस्म विभूति बन लिपटा कब महेश मन ? यक्ष प्रश्न ? शायद ... जब छोटे छोटे स्वार्थों का त्याग बन जाता है, सफलता ...